रुद्रपुर – जीरो टॉलरेंस की बात करने वाली भाजपा संगठन के नगर इकाई के एक पदाधिकारी ने इस बात के लिए अपने पद से इस्तीफा दे दिया है कि उसके द्वारा द्वारा लगाई गई आरटीआई में नगर निगम रुद्रपुर में भ्रष्टाचार का खेल खेला गया है। आरटीआई लगाने के बाद संगठन के पदाधिकारी उस पर दबाव बना रहे है। जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी के दक्षणी मंडल  इकाई में नगर मंत्री के पद से धर्मेंद्र आर्या ने अपना इस्तीफा मंडल अध्यक्ष भाजपा को सौपा है। इस बात जानकारी उन्होंने सोशल मीडिया में भी दी है। बातचीत में उन्होंने कहा कि नगर निगम रुद्रपुर में भ्रष्टाचार के खुलासे के लिए आरटीआई लगाई गई थी। लेकिन आरटीआई के जवाब मिलने के बाद भाजपा संगठन के पदाधिकारियो द्वारा उस पर दबाव बनाया जा रहा है। जिसके चलते उन्होंने नगर मंत्री पद से इस्तीफा नगर अध्यक्ष भाजपा को सौप दिया है। उन्होंने अपनी फेसबुक में लिखा है कि कुछ निर्माण कार्यों में मुझे भारी भ्रष्टाचार होने का संदेह हुआ जिसमें मेरे द्वारा सूचना अधिकार अधिनियम 2005 के अंतर्गत उन सभी कार्यों को लेकर RTI लगाई गई जिसे लेकर मुझ पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है कि मैं संगठन का पदाधिकारी भी हूं मैंने RTI क्यों मांगी अतः मैं अपने पद से स्वेच्छा से इस्तीफा देता हूं तथा उन व्यक्तियों को भी सचेत करता हूं जो इस भ्रष्टाचार में लिप्त हैं जल्द ही सबके कारनामे उजागर होंगे ।।

 
यह भी पढ़ें :  कोरोना की तीसरी सम्भावित लहर को लेकर जिला प्रशासन मुस्तैद, चैकिंग टीम से बचता हुआ दिखा पुलिसकर्मी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here