सितारगंज – सितारगंज थाना क्षेत्र में एक महिला द्वारा पड़ोस में रहने वाले युवक व उसके परिवार के अन्य तीन सदस्यों पर उसे 60 हजार में बेचने का आरोप लगाया है। यही नही खरीदार उसके बेटे और दामाद पर गैंग रेप का आरोप भी लगाया है। मामले में सितारगंज थाना पुलिस ने पीड़िता की तहरीर पर अभियोग पंजीकृत विवेचना शुरूकर दी है। सितारगंज शक्तिफार्म निवासी एक महिला ने पुलिस को सौपी तहरीर में बताया कि पड़ोस में रहने वाले सुकेश सक्सेना ने उसे बदायूं में 10 हजार की नॉकरी का झांसा दिया। 1 नवम्बर को वह अपनी नाबालिक बेटी के साथ उसके साथ गयी। जहा से वह उसके पिता के साथ बरेली गयी। कुछ दिन बाद पिता के घर पर रुकने के बाद उसे बदायूं एक घर मे भेज दिया गया। जहा पर उसे एक कमरे में बंद कर दिया गया। उसका मोबाइल छीन लिया गया। कुछ दिन बाद घर के मलिख राम सिंह उसके पुत्र राजवीर सिंह व दामाद ने उसकी बेटी के गले मे चाकू रख कर उसके साथ दुष्कर्म किया। जब उसके द्वारा विरोध किया गया तो उसे कहा गया कि उसे 60 हज़ार रुपये में खरीदा गया है। जब पति का सम्पर्क पत्नी से नही हुआ तो पति द्वारा महिला की सितारगंज थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई गई। जिसके बाद सितरगंज थाना पुलिस और यूपी पुलिस ने महिला को बड़ाई मूसाझाग से बरामद पर परिजनों को सुपुर्द किया गया। एक सप्ताह बाद महिला ने थाने में पहुच कर पड़ोस में रहने वाले युवक सहित उसके पिता,माँ, बहन पर उसे बेचने व तीन खरीदार पर गैंग रेप करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने महिला की तहरीर पर 7 आरोपियो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।
एसपी सिटी ममता बोहरा ने बताया कि 30 नवम्बर को सितरगंज थाने में महिला की गुमशुदगी दर्ज हुई थी। जिसके बाद पुलिस ने महिला को बदायूं से बरामद कर बदायूं मूसाझाग से बरामद कर परिजनों को सुपुर्द कर दिया था। एक सप्ताह के बाद उसके द्वारा थाने में पहुच कर बेचने और उसके साथ गैंग रेप का आरोप लगाया है। महिला की तहरीर पर अभियोग पंजीकृत कर विवेचना शुरू कर दी गयी है।
यह भी पढ़ें :  ममता के आगे बोनी साबित हुई जिंदगी, बच्चे को बचाने के लिए मशीन से जा भिड़ी माँ 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here