रुद्रपुर – उत्तरप्रदेश के लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में किसानों द्वारा यूपी के उपमुख्यमंत्री ओर केंद्रीय राज्य मंत्री के कार्यक्रम में काले झंडे ले कर विरोध करने के दौरान केंद्रीय मंत्री के बेटे द्वारा किसानों को कार से कुचलने के मामले में जनपद उधम सिंह नगर में भी सरकार के खिलाफ जम कर प्रदर्शन किया। काशीपुर, बाज़पुर, गदरपुर में जहा सैकड़ो किसान सड़क में उतर आए ओर सड़क को पूरी तरह बाधित कर दिया।
मामले की सूचना पर पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुच गयी। काफी समझाने के बाद भी किसान सड़क में डटे रहे। इस दौरान किसानों ने केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ जम कर नारे बाज़ी भी क़ई। बाद में आपसी बातचीत के बाद किसानों ने जाम को खोल दिया। वही किच्छा में भी दर्जनों किसानों ने सरकार का पुतला दहन कर धरना दिया। इस दौरान प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि किसानों पर कार चढ़ा कर मौत के घाट उतारना ये लोकतंत्र की हत्या है।
संयुक्त किसान मोर्चा के प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा ने कहा कि लखीमपुर खीरी में शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे किसानों  को गाड़ियों से रौंदना व गोलियों से हमला करना जिसमें अभी तक 4 किसान शहीद हो चुके हैं यह भाजपा सरकार का  कातिलाना हमला देश के मजदूरों किसानों पर होने के साथ-साथ इस महान देश के महान लोकतंत्र पर भी है। आज किसानों मजदूरों की निर्मम हत्या के साथ ही लोकतंत्र की भी हत्या हुई है भाजपा सरकार के नुमाइंदे सत्ता के नशे में चूर है भाजपा का दमन चक्र किसी भी तरीके से किसानों मजदूरों के इस आंदोलन को खत्म नहीं कर सकता भाजपा के इन गुंडों पर हत्या का मुकदमा दर्ज होना चाहिए। वही भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष कर्म सिंह पड्डा ने कहा कि किसानों पर कार चढ़ा कर हत्या करना निंदनीय है। इस तरह के हथकंडों से किसान पीछे हटने वाली नही। कल जनपद के किसान लखीमपुर खीरी के लिए रवाना होगी।
यह भी पढ़ें :  फिर हुए 25 सिपाहियों के तबादले, कप्तान ने जारी की लिस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here