पन्तनगर – पंत नगर कृषि विश्वविद्यालय में कुलपति ने अपने विशेषाधिकारों प्रयोग करते हुए नियम विरुद्ध भाजपा नेता और एक दुकानदार को 4 कमरों का आवास आवंटित कर दिया। जैसे ही इसकी भनक विश्विद्यालय के कर्मचारियो को लगी तो सभी लोग कुलपति के दफ्तर के भीतर धरने में बैठ गए। क़ई घण्टे के हाईवोल्टेज ड्रामे के बाद आखिरकार कुलपति तेज़ प्रताप को अपने आदेश को निरस्त कर अधिनस्त कर्मचारियो को आवास को कब्जे में लेने के निर्देश दिए गए।
लेकिन हैरत की बात तो ये है जिन अधिकारियों को निर्देशित किया गया है वह दोनों ही अधिकारी कल छुट्टी चले गए है। विश्वविद्यालय के कर्मचारी राजेश सिंह ने बताया कि कुलपति तेज़ प्रताप ने नियम विरुद्ध भाजपा नेता व जिला महामंत्री विवेक सक्सेना ओर एक दुकानदार नंदा बलभ पांडेय को सरकारी आवास आवंटित कर दिया। जबकि वर्ष 2016 में बोर्ड बैठक में किसी भी ठेकेदार/दुकानदार को आवास आवंटित ना करने जो दिए गए है उन्हें कैंसिल करने का प्रस्ताव पास किया गया था। जिसके बाद 16 आवास आवंटित को रद्द कर दिया गया था। लेकिन तब से लेकर अब तक ठेकेदार उन आवासों में कुंडली जमाये हुए है। हैरत की बात तो यह है कि उक्त वाहनो का ना ही किराया विश्वविद्यालय कक मिल रहा है और ना ही बिजली पानी का बिल का बुगतान हो रहा है। अब तक ऐसे 16 ठेकेदारों पर लगभग 3 करोड़ का बकाया बना हुआ है। इस सब के बावजूद कुलपति ने पावर सीज होने के बाद भी अपने विशेषाधिकारों का प्रयोग करते हुए दो लोगो को सरकारी आवास आवंटित कर दिए।
प्रोफेसरो को मिलने वाले 4 कमरों के आवास कर दिए आवंटित
कुलपति तेज़ प्रताप का एक सप्ताह का कार्यकाल ओर बचा हुआ है। ऐसे में नियम के अनुसार राजभवन से तीन माह पूर्व ही उनके सभी पॉवरो को सीज कर दिया गया। इसके बावजूद उन्होंने अपने विषेशाधिकार का प्रयोग करते हुए दो रसूखदार लोगो को शिक्षको को दिए जाने वाले 4 कमरों के भवनों को उन्हें आवंटित कर दिया। कर्मचारियो के विरोध के बाद उन्हें आवंटित आवासों को रद्द करना पड़ा।
यह भी पढ़ें :  प्रदेश कांग्रेस को मिले नए मुखिया गणेश गोदियाल, प्रीतम बने नेता प्रतिपक्ष

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here