पंतनगर – गदरपुर सीएचसी अधीक्षक डा.संजीव शरना को सीएमओ कार्यालय पहुंचकर हंगामा कर एसीएमओ को धमकी देना महंगा पड़ गया।  एसीएमओ डॉ हरेंद्र मलीक ने मामले में थाना पन्तनगर पुलिस को तहरीर सौप कर आरोपी सीएचसी इंचार्ज के खिलाफ कार्यवाही की मांग की थी। मामले में पुलिस ने गदरपुर सीएचसी प्रभारी के खिलाफ गालीगलौज और धमकी देने का केस दर्ज कर लिया है।
          गदरपुर सीएचसी अधीक्षक डॉ संजीव सरना और अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरेंद्र मलिक के बीच विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। अब एसीएमओ हरेंद्र मलिक द्वारा पुलिस को गदरपुर सीएचसी इंचार्ज के खिलाफ तहरीर सौपी है। एसीएमओ डॉ हरेंद्र मलिक ने कहा है कि 16 सितंबर की सुबह  प्रभारी चिकित्सा अधीक्षक, गदरपुर, डॉ संजीव सरना ने उनसे कार्यालय में रुकने के लिए कहा। लेकिन जैसे ही वह कार्यालय पहुंचे तो वह कोविड वैक्सिनेसन कार्य के लिए वह फील्ड में चले गए थे। उन्हें  इंटरनेट मिडिया के माध्यम से पता चला कि डा० संजीव सरना ने उन्हें हाथ-पांव तोडने की धमकी दी है। वायरल विडियो में बोलते हुए नज़र आ रहे है कि आज रात डा० हरेन्द्र मलिक के हाथ-पांव टूटेंगे। इसके बाद डा० संजीव सरना मोबाईल पर किसी से बात करते हुए कहते है कि डा0 हरेन्द्र मलिक की फिल्डिंग लगाने के साथ ही हाथ-पैर तोड डालो। जो एक अत्यन्त गम्भीर मामला है। कभी भी उनके साथ कोई भी घटना घट सकती है। उन्होंने  वायरल वीडियो की सत्यता का परीक्षण कर आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। मामले में थाना पन्तनगर पुलिस ने डॉ संजीव सरना के खिलाफ धारा 504, 506 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। थानाध्यक्ष पन्तनगर मदन मोहन जोशी ने बताया कि एसीएमओ हरेंद्र मलिक की तहरीर पर सीएचसी गदरपुर के अधीक्षक संजीव सरना के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जाच सिडकुल चौकी इंचार्ज सुरेंद्र सिंह को दी गई है।
यह भी पढ़ें :  ट्रक की टक्कर से दो दोस्तों की मौत, परिजनों में मचा कोहराम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here