पन्तनगर – 110वें अखिल भारतीय किसान मेले एवं कृषि उद्योग प्रदर्षनी का शुभारम्भ मुख्य अतिथि के रूप में प्रगतिशील किसान रवि किरण सैनी एवं विषिष्ट अतिथि किसान आयुक्त के उपाध्यक्ष, राजपाल ने फीता काटकर किया। मेले के उद्घाटन के बाद कुलपति, डा. तेज प्रताप द्वारा सैनी को मेले में लगी उद्यान प्रदर्षनी तथा विष्वविद्यालय के महाविद्यालय के स्टाल का अवलोकन कराया गया। मुख्य उद्घाटन समारोह गांधी हाल सभागार में आयोजित किया गया। आज से शुरू हुए किसान मेला का समापन 10 अक्टूबर को किया जाना है। मेले में लगभग दो सौ स्टाल लगाई गई है। जिसमे किसानों को अत्याधुनिक कृषि यंत्र, बीज और पेड़ पौधों की प्रदर्शनी लगाई गई है। इसके अलावा सभी कॉलेजों द्वारा अपने अपने कालेजो में प्रदर्शनी लगाई गई है। गौरतलब है कि पन्तनगर कृषि विश्वविद्यालय की ओर से रवि ओर खरीफ की फसल की बुआई से पहले हर साल दो बार किसान मेले का आयोजन करता है। जिसमे किसानों को उच्च गुणवत्ता के बीज, पेड़ पौधे ओर वैज्ञानिक तरीके से खेती करने के गुर सिखाए जाते है। मेले में देश के क़ई राज्यो के किसान सहित पडोसी देश नेपाल से भी किसान शिरकत करते है।

प्रगतिशील किसान रविकिरण सैनी ने कहा कि विष्वविद्यालय द्वारा किसान मेले में मुझे याद किया गया यह मेरे लिए गर्व की बात है। उन्होंने बताया कि भू-अमृृत ब्रांड से वर्तमान में 657 जैविक किसान से जुडे़ हुए है। उन्होंने ने कहा कि हमें जैविक खेती अपनानी चाहिए जिससे हमें अच्छी उपज प्राप्त होती है तथा किसानों को जैविक खेती करने से कम लागत में अधिक मुनाफा प्राप्त होता है। उन्होंने किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए विभिन्न तकनीकों, जैसे उच्च गुणवत्ता के बीज, पौध एवं पशु नस्ल का प्रयोग, कृषि के साथ कृषि आधारित-सह-व्यवसाय अपनाना, उपलब्ध जल स्रोतों का खेती में उपयोग के लिए उपाय ढूंढना, कृषि रसायनों का कम उपयोग, समन्वित खेती अपनाया जाना इत्यादि पर ध्यान केन्द्रित किया।
वही राजपाल ने कहा कि पंतनगर किसान मेले में भारत वर्ष के हर जगह से किसान आते है। यहां से वैज्ञानिकों तकनीकों, उन्नत बीजों की जानकारी एवं विधियों को प्राप्त कर उनका उपयोग खेती में करके किसान अच्छी आय प्राप्त करते है। उन्होंने कहा कि किसानों को एक समूह में मिलकर जैविक खेती करने की आवष्यकता है जिसके लिए किसानों एवं वैज्ञानिकों को साथ मिलकर काम करने हेतु बल दिया। उन्होंने कहा कि रसायन के उपयोग को कम करने और मृदा को स्वस्थ्य बनाने के लिए मृदा में जीवांषम की मात्रा बढ़ानी होगी। इसके लिए कृषकों को हरी खाद, गोबर की खाद एवं प्राकृतिक खाद की तरफ अग्रसर होना होगा।
पंतनगर किसान मेले में 09 प्रगतिशील किसान हुए सम्मानित
पंतनगर में आयोजित अखिल भारतीय किसान मेला एवं कृषि उद्योग प्रदर्षनी के उद्घाटन समारोह के अवसर पर आज मुख्य अतिथि, श्री रवि किरण सैनी एवं विषिष्ट अतिथि किसान आयुक्त के उपाध्यक्ष, श्री राजपाल के साथ कुलपति, डा. तेज प्रताप, एवं अन्य अतिथियों ने गांधी हाल में खेती में अभिनव प्रयोग करने और उल्लेखनीय सफलता के लिए राज्य के विभिन्न जनपदों से चुने गये 09 प्रगतिषील कृषकों को प्रतीक चिन्ह व प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया। सम्मानित होने वाले किसानों में श्री भोपाल सिंह, ग्राम मल्ला खतेड़ा, जिला चम्पावत; श्री ओमदत्त, ग्राम बाखरपुर, जिला हरिद्वार; श्रीमती पुष्पा देवी, ग्राम रियांसी, जिला पिथौरागढ़; श्री महिपाल सिंह, ग्राम ल्वाणी, जिला चमोली; श्री शेखर चन्द्र भट्ट, ग्राम ज्योली, जिला नैनीताल; श्री दिनेष गौड़, ग्राम जस्सोवाला, जिला देहरादून; श्री यषपाल नयाल, ग्राम भाटनयाल ज्यूला, जिला अल्मोड़ा; श्री कुलवंत सिंह, ग्राम कचनाल गाजी, जिला ऊधमसिंह नगर; एवं श्री विजय सेमवाल, ग्राम बरसू, जिला रूद्रप्रयाग, सम्मिलित थे।
यह भी पढ़ें :  क्षेत्रपंचायत सदस्य ने थाने में घुस कर प्रभारी एसओ पर ताना तमंचा, गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here